10 सुपरफूड मसल्स गेन करने के लिए

0
807
मसल्स गेन
मसल्स गेन

आज के आधुनिक युग में हर कोई अपने आप को मसल्स गेन करके सुंदर सुडोल दिखाना चाहता है और देखना चाहता है इसके लिए बहुत सी चीजों को जैसे व्यायाम एक अच्छी बैलेंस डाइट पर निर्भर करता है यह है ना आपको सुडोल बनाता है बल्कि आपकी age को भी कुछ हद तक छुपाता है. वह इंग्लिश में कहावत है ना first impression is the last impression वही

मसल गेन करने के लिए क्या करना चाहिए? कैसे मसल गेन डाइट प्लान बनाये?

रोजाना व्यायाम करने से आप जिस शेप में चाहें वैसे मसल्स गेन कर सकते हैं। मसल्स की मजबूती चाहते हैं तो एक्सरसाइज करना बेहद जरूरी है। इसके साथ ही आपको सही भोजन करना भी जरूरी है। आप क्या खा रहे हैं उससे आपकी मसल्स पर काफी प्रभाव पड़ता है।आपको ऐसा भोजन करना चाहिए जिसमें प्रोटोन, हेल्दी कार्बोहाइड्रेट और हेल्दी फैट शामिल हो।

इसके साथ ही कई और पोषक तत्व जैसे पोटैशियम, कोपर, कैल्शियम, आयरन, विटामिन आदि शामिल होना चाहिए। मसल्स गेन के लिए प्रोटीन की आवश्यकता सबसे ज्यादा होती है. अगर कोई मसल्स गेन करना चाहता है, तो उसके लिए प्रोटीन डाइट लेना बेहद जरूरी हो जाता है. प्रोटीन डाइट लेने से बॉडी को मसल्स टिश्यूज को रिपेयर करने और नए मसल्स टिश्यूज को बनाने में मदद मिलती है.

मसल्स बनाने के लिए कौन सा विटामिन लेना चाहिए?

विटामिन ए यह विटामिन मसल्स की ग्रोथ के लिए काफी जरूरी है। यह विटामिन मसल्स को मजबूत बनाने में काफी मदद करता है।

मसल्स बनाने के लिए मुझे कितने प्रोटीन चाहिए?

वैज्ञानिकों ने अनुमान लगाया है मांसपेशियों को प्राप्त करने के लिए एक सामान्य शरीर के वजन का 1 ग्राम प्रोटीन प्रति पाउंड (2.2 ग्राम प्रति किग्रा) होना चाहिए

मसल्स बनाने के लिए क्या खाये? जाने 10 सुपरफूड जो ‘मसल्स’ बनाते हैं

1. पानी

आपके मसल्स के टिश्यू 75 फीसदी पानी के कारण ही बनते हैं।इन सभी सुपर फूड खाने के साथ ही पानी की अधिक मात्रा भी लेनी चाहिए। के दौरान पानी की कमी ना हो इसलिए वर्कआउट के बाद खूब पानी पीएं।

2. शकरकंदी

कार्बोहाइड्रेट से भरपूर शकरकंदी में विटामिन 6, सी, ई, डी, आयरन, कॉपर और मैग्निशियम जैसी हेल्दी चीजें पाई जाती हैं। ग्रील्ड शकरकंदी खाने से शरीर में प्रोटीन की कमी भी नहीं होती

आजकल के आधुनिक आयुर्वेदिक प्रोडक्ट मैं यह सब Fruits & Herbs आराम से आपको कोल्ड प्रेस शुगर फ्री मिल जाते हैं आप खुद इनका चयन करके. इनका उपयोग रोज के प्रोटीन विटामिन मिनरल्स की पूर्ति  के लिए कर सकते हैं

3. बादाम

बादाम में पाए जाने वाला शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट शरीर को वर्कआउट के बाद जल्दी रिकवर करता है। साथ ही एनर्जी लेवल को भी बढ़ाता है। बदाम में प्रोटीन, फाइबर और विटामिन ई की मात्रा बहुत अधिक होती है जो बादाम मसल्स गेन के लिए बहुत फायदेमंद बनती है।

4. अलसी का बीज

अलसी के बीज में अधिक मात्रा में ओमेगा 3 पाया जाता है।इसमें फाइबर भी अधिक मात्रा में पाया जाता है। जो कि एनर्जी लेवल बढ़ाता है और स्टेमिना भी बढ़ाता है।

5. पालक

 एक रिसर्च के मुताबिक, पालक में पाए जाने वाले पोषक तत्वों से मसल्स की ग्रोथ 20 फीसदी तक होती है।साथ ही इसमें पाये जाने वाला आयरन मसल्स में मदद करता है। हरी सब्जियों में अमिनो एसिड पाया जाता है जो कि मसल्स को रिपेयर करता है।और मेटाबॉलिज्म रेट बढ़ाने मैं मदद करता है

6. आउटफली या बींस

आपको अपनी डायट में फली को शामिल करना चाहिए। फली में अलग-अलग तरह के पोषक तत्व जैसे फाइबर, कार्बोहाइड्रेट्स और प्रोटीन पाया जाता है। प्रोटीन और फाइबर से मसल्स गेन में बहुत मदद मिलती है।

7. दूध

 दूध में प्रोटीन भरपूर मात्रा में पाया जाता है। दूध में प्रोटीन के अलावा अच्छी मात्रा में बहुत सरे विटामिन, मिनरल्स और कार्बोहाइड्रेट्स भी पाया जाता है। साथ ही इसमें मौजूद फैट भी होता है जो मसल्स गेन में बेहद कारगर साबित होता है।

जरूर पढ़े:- हृदय रोग को रोकने के लिए 20 मैग्नीशियम भोजन और फल

8. अंडा

अंडे में मसल्स बनाने के लिए जरूरी पोषक त्त्व अमिनो एसिड भी होते हैं। साथ ही इसमें मिनरल्स, कैल्शियम, जिंक और आयरन भी पाया जाता है। अंडे की ज़र्दी (पीला भाग) में विटामिन ए, बी, बी12, ई, के और फोलिक एसिड पाया जाता है।  ये सब विटामिन मेटाबॉलिज्म को स्वस्थ बनाते हैं और मोटापे को ऊर्जा में बदल कर बीमारीओं से बचाते है

9. मछली

सैमन मछली खासतौर पर इसमें ओमेगा 3, ईपीए, डीएचए, विटामिन बी और भारी मात्रा में प्रोटीन पाया जाता है।इसमें कई और पोषक तत्व मैग्नीशियम, सिलीनीअम, कैल्शियम और आयरन पाया जाता है जो मसल्स गेन, रिपेयर करने और मसल्स रिकवरी में काम आता है।

10. चिकन

इसमें पाए जाने वाला विटामिन, बी6, आयरन, जिंक जैसे पोषक तत्वों से बॉडी बिल्डिंग में बहुत मदद मिलती है। चिकन मसल्स के टिश्यू को रिपेयर करता है।

सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी हृदय रोग विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here