दिमाग के स्वास्थ्य में सुधार कैसे करें

0
368
दिमाग के स्वास्थ्य में सुधार कैसे करे
दिमाग के स्वास्थ्य में सुधार कैसे करे

हमारी रोज की गतिविधियाँ हमारे शारीरिक स्वास्थ्य को कई तरह से प्रभावित करती हैं। इससे हमारा दिमाग भी प्रभावित होता है। हम जो कुछ भी करते हैं, सुनते हैं या प्रतिक्रिया करते हैं, उससे हमारा दिमाग सीधे रूप से प्रभावित होता है। दिमाग के नुकसान से बचने के लिए, हमें उन आदतों को पहचानने और बदलने की आवश्यकता है जो दिमाग को नुकसान पहुँचाती हैं। आप इन आदतों को बदलकर अधिक स्वस्थ और अच्छा महसूस कर सकते हैं।

दुनिया भर में चार में से एक व्यक्ति को ब्रेन स्ट्रोक का खतरा होता है, और स्ट्रोक से पीड़ित बीस प्रतिशत लोगों की उम्र 40 से कम होती है। स्ट्रोक दुनिया भर में मौत का दूसरा प्रमुख कारण है। भारत में हर साल ब्रेन स्ट्रोक से बीमार लोगों की संख्या 18 हजार से अधिक हो जाती है। यदि दिमाग में कोई नस फट जाती है और खून बहता है तो दिमाग में ब्रेन स्ट्रोक का कारण बन सकता है। इस हालत में दिमाग को ऑक्सीजन और खून की कमी हो जाती है। ऑक्सीजन की कमी में दिमाग की कोशिकाएं और टिश्यू जल्दी मर जाते हैं या ख़राब हो जाते हैं।

आजकल के आधुनिक आयुर्वेदिक प्रोडक्ट मैं यह सब Fruits & Herbs आराम से आपको कोल्ड प्रेस शुगर फ्री मिल जाते हैं आप खुद इनका चयन करके. इनका उपयोग रोज के प्रोटीन विटामिन मिनरल्स की पूर्ति के लिए कर सकते हैं.

दिमाग पर बुरा असर डालती हैं ये आदतें

  • नींद का काम आपके शरीर और दिमाग को आराम देना है ताकि वे जल्दी ठीक हो सकें और अगले दिन के लिए एक्टिव हो सके। तनाव दूर करने के साथ-साथ यह दिमाग के नसो की मरम्मत करता है और ऊर्जा के लेवल को दोबारा बढ़ने मे मदद करता है। सुनिश्चित करें कि आप नियमित रूप से रोज भरपूर नींद लें रहे है। जब आपको रात में सोने में परेशानी हो तो शराब, कॉफी और इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों से दूर रहें।
  • खराब लाइफस्टाइल के कारण भी ब्रेन स्ट्रोक हो सकता है। इसमें कोई शक नहीं है कि खराब लाइफस्टाइल की सूची में मोबाइल फोन सबसे ऊपर हैं। 50 मिनट से अधिक समय तक मोबाइल फोन का उपयोग करने से दिमाग की गतिविधि तेज हो सकती है। मन में चिंता पैदा कर मोबाइल मन की शांति को भंग कर देते हैं। इसके अलावा डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर वाले लोगों और व्यायाम न करने वाले लोगों को ब्रेन स्ट्रोक का खतरा अधिक होता है।
  • हमारा दिमाग 90% पानी से बना है। बिना पानी पिए एयर कंडीशनिंग में लंबे समय तक रहने से आपकी कोशिकाएँ सिकुड़ जाएँगी। पानी पीने से हम अपने दिमाग को स्वस्थ रखते हैं साथ ही अपने शरीर को हाइड्रेटेड रखते हैं। इसलिए दिन में खूब पानी पीना चाहिए।
  • ज्यादा अकेले रहने से दिमाग पर बुरा असर पड़ता है। इससे आगे अल्जाइमर का खतरा बढ़ सकता है। जब आप अपना अधिकांश समय घर में बिताते हैं तो घर में भरपूर प्राकृतिक प्रकाश नहीं होता है। परिणामस्वरूप आप उदास हो सकते हैं। इससे आप सुस्त भी हो सकते हैं। अकेलेपन के कारण तनाव और उदासी भी हो सकती है।
  • जंक फूड में काफी मात्रा में सोडियम होता है, जो दिमाग में न्यूरॉन सेल्स को नुकसान पहुंचाता है। अधिक मात्रा में जंक फूड खाने से सिरदर्द (Headache), जी मिचलाना और भ्रम जैसी समस्याएं हो सकती हैं। जरूरत से ज्यादा खाने के लिए सिर्फ दिमाग जिम्मेदार होता है। ज्यादा खाने से दिमाग की सोचने की क्षमता प्रभावित होती है।

दिमाग के स्वास्थ्य में सुधार कैसे करें

  • दिमाग को ठीक से काम करने के लिए नियमित रूप से व्यायाम करना जरूरी है। दिमाग को तेज करने से सीखने की क्षमता बढ़ती है और मूड अच्छा रहता है।
  • फलों और सब्जियों से भरपूर आहार खाने से दिमाग  के कार्य को बनाए रखने और ऑक्सीडेटिव क्षति को कम किया जा सकता है। आप कुछ पोषक तत्वों का सेवन करके अपने दिमाग की कार्यक्षमता में सुधार कर सकते हैं।
  • ब्लड प्रेशर, ब्लड शुगर (Blood Sugar) और कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित करना, धूम्रपान और शराब का सेवन कम करना और अपने दिमाग के स्वास्थ्य को सुनिश्चित करने के लिए नियमित जांच कराना भी महत्वपूर्ण है।
  • दिमाग ठीक से विकसित होता है और भरपूर नींद और आराम मिलने पर अगले दिन तक एक्टिव रहता है। इसके अलावा, यह याददाश्त में सुधार करता है, अवसाद की संभावना को कम करता है और मूड को बेहतर बनाता है।
  • मानसिक रूप से फिट रहने की कुंजी दिमाग को तेज करने वाली गतिविधियों में शामिल है। पहेलियों को हल करने से, शतरंज खेलने से, मुश्किल परिस्थितियों में सोचने और अपने दिमाग की शक्ति का उपयोग करने से हम मानसिक रूप से स्वस्थ रहते हैं। अच्छे मानसिक स्वास्थ्य को बनाए रखकर भूलने की बीमारी को भी रोका जा सकता है।
  • दूसरों के साथ स्वस्थ और रचनात्मक बातचीत में शामिल होना, सामाजिक जीवन जीना और दूसरों के साथ बातचीत करना मस्तिष्क को स्वस्थ रखता है। इसके अतिरिक्त, अवसाद होने की संभावना कम होती है।

जरूर पढ़े:- एसिडिटी और गैस का इलाज

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here